Rajamudi Rice या Red Rice

Rajamudi Rice या Red Rice जैसा की अपने नाम से ही पता चलता है की राजसी चावल है. कहा जाता है की जो लोग मैसूर के राजा को tax देने में असमर्थ होते थे उन्हें इस लाल चावल को tax के रूप में देना होता था. इसका उत्पादन ज्यादातर दक्षिण भारत में होता है.

Rajamudi Rice तथा अन्य प्रकार के लाल चावल पोषण से भरपूर होता है. यह चावल मधुमेह के रोगी के लिए अधिक लाभकारी होता है. राजामुड़ी चावल से वजन कम करने में भी काफी सहायता मिलती है. चावल की यह किस्म तमिलनाडु में उत्पादित की जाती है.

Rajamudi Rice में फाइबर और खनिज पदार्थों की भरपूर मात्रा होती है. साथ ही साथ यह विटामिन B और विटामिन E का एक अच्छा श्रोत है. राजामुड़ी चावल में फाइबर भरपूर मात्रा में होती है इसलिए इसका पाचन होने में बहुत समय लगता है.


Benefits of rajamudi rice राजमुड़ी चावल के फायदे

  1. Rajamudi Rice कई तरह के रोगों से लड़ने की क्षमता को बढाता है आइये ऐसे कुछ रोगों के बारे में बात करते हैं.
  2. इस चावल के नियमित सेवन बवासीर नामक बिमारी को दूर कर सकता हैं.
  3. बच्चों में दस्त की समस्या को दूर करता है.
  4. यह चावल गुर्दे में होने वाले पथरी की समस्या को कम करने में सहायक होता है.
  5. इस चावल के सेवन से ह्रदय स्वस्थ होता है तथा ह्रदय के रोगों से लड़ने की क्षमता बढती है.
  6. राजमुदी चावल का सेवन हमें मधुमेह नामक बीमारी से दूर रखता है.
  7. इस चावल का उपयोग कई तरह की औषधि बनाने में काम आता है.
  8. उच्च रक्तचाप तथा सीने में होने वाले दर्द से पीड़ित लोगों को इस चावल के सेवन की सलाह दी जाती है.
  9. इस चावल को स्तनपान कराने वाली महिलाओं को दैनिक रूप से देना चाहिए.
  10. लाल चावल सुजन की समस्या को कम करने में सहायक होता है.
  11. वजन कम करने के इच्छुक लोगों को अपने आहार में इस लाल चावल को शामिल करना चाहिए. क्युकी यह पचने में काफी समय लेता है. तथा भूख के दर्द को नियंत्रित करता है.
  12. यह चावल फाइबर तथा आयरन से भरपूर होता है.
  13. यह चावल पेट दर्द की समस्या को कम करने में सहायक होता है.

Rajamudi Rice लाल या भूरे रंग का होता है तथा पकने के बाद गुलाबी रंग का हो जाता है. इस लेख में हमने जाना की राजमुड़ी चावल क्या है तथा इसके क्या लाभ हैं.

Leave a Comment